Skip to main content

चाहत जिंदगी की

ख़ामोश सी शाम गुजर जाती है उनके साथ।

चाहत है साथ जिनके जिंदगी गुजारने की।।

Comments

Popular posts from this blog

माँ की परिभाषा

माँ धरती, माँ आकाश है,
माँ फैला हुआ प्रकाश है |
माँ श्रद्धा, माँ विश्वास है,
माँ एकमात्र ही आस है ||

माँ आँगन की तुलसी जैसी,
माँ बरगद जैसी छाया है |
माँ सहज बेदना कविता की,
माँ महाकाव्य की काया है ||

माँ ममता की एक मूर्ति है,
माँ संस्कारों की पूर्ति है |
माँ हर हाथों की शक्ति है,
माँ एक प्रेम की भक्ति है ||

माँ हरी दुब है धरती की,
माँ केसर वाली क्यारी है |
माँ की उपमा केवल माँ है,
माँ हर घर की फुलवारी है ||

माँ गंगा, यमुना, सरस्वती,
माँ लक्ष्मी, गौरी देवी है |
माँ ही धरती का स्वर्ग है,
माँ साक्षात ही ईश्वर है ||

माँ झरनों का मीठा स्वर है,
माँ सहस्त्र ढाल प्रखर है |
माँ पूरी की पूरी भाषा है,
बस यही माँ की परिभाषा है ||

मेरा नाम मुक़्क़मल हो जाये

आगाज़ हो तेरे हाथों से, अंजाम मुक़्क़मल हो जाये |
मेरा नाम जुड़े तेरी हस्ती से, मेरा नाम मुक़्क़मल हो जाये | |

दुनिया वालों ने यूँ मुझपर, तोहमत तो हज़ारों रखी हैं |
एक तू जो दीवाना कह दे, इलज़ाम मुक़्क़मल हो जाये | |

ये फूल, गगन, माहताब, घटा, सब हाल अधूरा कहते है |
तू छू ले अपने होटों से, पैगाम मुक़्क़मल हो जाये | |

मैं दिन भर भटका करता हूँ, यादों की ओझल बस्ती में |
जो गुजरे तेरी यादों में, वो शाम मुक़्क़मल हो जाये | |

दे दुनिया मुझको दाद भले, नज़रों को तेरी चाहत है |
एक तेरा तबस्सुम और मेरा, ईनाम मुक़्क़मल हो जाये | |


वक़्त लगता है

दिल-ऐ-इश्क़ इज़हार में, वक़्त लगता है |
नये परिंदों को उड़ने में, वक़्त लगता है ||

दिल के सारे अरमानों को, ख़त में लिखना चाहा है |
प्यार का पहला ख़त लिखने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

इश्क़-ऐ-इज़हार को, आँखों में छुपाकर रखा है |
आँखों से मोहब्बत पड़ने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

तन की बात नहीं है, उसके मन तक मुझको जाना है |
लम्बी दूरी तय करने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

ख़्वाबों में दीदार के तेरे, महल सज़ा इक रखा है |
पर ख़्वाब मुकक्मल होने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

हया का पर्दा आ जाता है, हाल-ऐ-दिल सुनाने में |
हया की बदली के छटने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....