Skip to main content

चाहत जिंदगी की

ख़ामोश सी शाम गुजर जाती है उनके साथ।

चाहत है साथ जिनके जिंदगी गुजारने की।।

Popular posts from this blog

तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं |

तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं |
प्यार भरे दिल के पन्नों से कोई पैगाम लिख डालूं ||

प्यार से मुझको देखकर यूँ मुस्कुरा जाना,
निगाहें मिलने पर पलकें झुका जाना,
झुकी हुई नज़रों का सारा अंदाज लिख डालूं |
तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं।| ......... (१)

धड़कते दिल को इक दिन तेरे खत का मिल जाना,
शायरों की महफ़िल में नये शायर का आ जाना,
दिल से आज की ग़ज़ल को तेरे नाम लिख डालूं |
तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं।| ......... (२)

तमन्ना थी हर सुबाह में दीदार के तेरी,
तुझे पाने से पहले थी अधूरी हर तमन्ना मेरी,
हर तमन्ना में जीने की तू ही बजाह लिख डालूं |
तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं।| ......... (३)

उठते है हाथ बहुत दुआओँ के लिए तेरी,
ऐ खुदा छोटी सी दुआ भी है इक मेरी,
दुआ में तुझको अपना सबसे ख़ास लिख डालूं |
तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं।| ......... (४)

तड़प कर बरसों जीने का कोई अहसास लिख डालूं |
प्यार भरे दिल के पन्नों से कोई पैगाम लिख डालूं ||

वक़्त लगता है

दिल-ऐ-इश्क़ इज़हार में, वक़्त लगता है |
नये परिंदों को उड़ने में, वक़्त लगता है ||

दिल के सारे अरमानों को, ख़त में लिखना चाहा है |
प्यार का पहला ख़त लिखने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

इश्क़-ऐ-इज़हार को, आँखों में छुपाकर रखा है |
आँखों से मोहब्बत पड़ने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

तन की बात नहीं है, उसके मन तक मुझको जाना है |
लम्बी दूरी तय करने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

ख़्वाबों में दीदार के तेरे, महल सज़ा इक रखा है |
पर ख़्वाब मुकक्मल होने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

हया का पर्दा आ जाता है, हाल-ऐ-दिल सुनाने में |
हया की बदली के छटने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....


माँ, मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ

चलते चलते मैं घुटनों से, पैरों पर आपने खड़ा हुआ |
आँचल में तेरी ममता के, जानें कब बच्चा बड़ा हुआ ||

कैसे भूलूँ उस भाषा को, जो होठों से सिखलायी थी |
मुझे सुलाने को रात भर, तुमने जो लोरी गाई थी ||

काला टीका और दूध मलाई, आज भी सब कुछ वैसा है |
मैं ही मैं हूँ हर जगह तुम्हे, जानें ये प्यार तुम्हारा कैसा है ||

सीधा साधा भोला भाला, मैं ही तुम्हे सबसे अच्छा हूँ |
कितना भी बड़ा हो जाऊं माँ, मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ ||

माँ हरियाली है धरती की, माँ केसर वाली कयारी है |
माँ की उपमा केवल माँ है, माँ हर घर की फुलवारी है ||

हर घर माँ को पूजा जाये, ऐसा संकल्प उठाता हूँ |
मैं दुनियाँ की हर माँ के, चरणों में शीश झुकता हूँ ||