Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2018

वक़्त लगता है

दिल-ऐ-इश्क़ इज़हार में, वक़्त लगता है |
नये परिंदों को उड़ने में, वक़्त लगता है ||

दिल के सारे अरमानों को, ख़त में लिखना चाहा है |
प्यार का पहला ख़त लिखने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

इश्क़-ऐ-इज़हार को, आँखों में छुपाकर रखा है |
आँखों से मोहब्बत पड़ने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

तन की बात नहीं है, उसके मन तक मुझको जाना है |
लम्बी दूरी तय करने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

ख़्वाबों में दीदार के तेरे, महल सज़ा इक रखा है |
पर ख़्वाब मुकक्मल होने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....

हया का पर्दा आ जाता है, हाल-ऐ-दिल सुनाने में |
हया की बदली के छटने में, वक़्त लगता है ||
नये परिंदों को उड़ने में.....